एमओयू के माध्यम से हम राज्य की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करा पायेंगे- मंगल पांडेय

एमओयू के माध्यम से हम राज्य की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करा पायेंगे- मंगल पांडेय

• राज्य स्वास्थ्य समिति एवं आईआईएम, बोध गया के बीच हुआ एमओयू पर हस्ताक्षर 
• नेतृत्वक्षमता, कार्यक्षमता एवं गुणवत्ता में वृद्धि के लिए प्रशिक्षित किये जायेंगे स्वास्थ्यकर्मी 

पटना - “स्वास्थ्यकर्मी अपने काम के बोझ को नजरंदाज करते हुए तनावपूर्ण माहौल में स्वास्थ्य सेवाएं जनमानस को पहुंचा रहे हैं. लेकिन कभी कभी हमें खबर मिलती है की स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा सेवा देने में कहीं कोई त्रुटी हुई है. इसी चीज में सुधार लाने एवं सेवाओं की गुणवत्ता बढ़ाने हेतु राज्य स्वास्थ्य समिति एवं आईआईएम, बोध गया के बीच हुआ एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया है. एमओयू के माध्यम से हम राज्य की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करा पायेंगे”, उक्त बातें एमओयू पर हस्ताक्षर के मौके पर स्वास्थ्य मंत्री, बिहार मंगल पांडेय ने बतायीं.

राज्य स्वास्थ्य समिति एवं आईआईएम, बोध गया के बीच हुआ एमओयू पर हस्ताक्षर:
आज स्वास्थ्य विभाग सभागार में राज्य स्वास्थ्य समिति एवं आईआईएम, बोध गया के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया. राज्य स्वास्थ्य समिति की तरफ से संजय कुमार सिंह, कार्यपालक निदेशक, राज्य स्वास्थ्य समिति, बिहार एवं आईआईएम, बोध गया की तरफ से संस्थान की निदेशक विनीता सहाय ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये. एमओयू का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य क्षेत्र के अंतर्गत राज्य से प्रखंड स्तर तक कार्यरत चिकित्सकों, नर्सों तथा विभिन्न प्रबंधकीय पदों के पदाधिकारियों एवं कर्मियों को प्रशिक्षण के माध्यम से उनके कार्यक्षमता एवं गुणवत्ता में और अधिक वृद्धि किया जाना है जिससे इनके नेतृत्वक्षमता, कार्यशैली एवं कार्यक्रमों को अधिक हितोपयोगी रूप से लागू किया जा सके.

आईआईएम, बोध गया के प्रशिक्षण से होगा स्वास्थ्यकर्मियों की कार्यकुशलता में विस्तार: 
स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा, स्वास्थ्य विभाग के लिए गर्व की बात है की आईआईएम, बोध गया पहली बार बिहार में किसी विभाग के साथ एमओयू कर रही है. इस प्रशिक्षण के माध्यम से सार्थक परिणाम नजर आयेंगे और स्वास्थ्यकर्मी बेहतर तरीके से अपने कार्यों को संपादित कर पाएंगे. वर्तमान में कार्यरत मानव संसाधन के तकनीकी प्रशिक्षण का का प्रावधान प्रत्येक कार्यक्रम अंतर्गत स्वीकृत है और अब मानव संसाधन के कौशल विकास की जरुरत है. इस अवसर पर अनिमेष कुमार पराशर, अपर कार्यपालक निदेशक, राज्य स्वास्थ्य समिति, राकेश कुमार, उप सचिव, राज्य स्वास्थ्य समिति, विभाग के अधिकारीगण एवं कई मीडियाकर्मी उपस्थित थे.