मिशन एक लाख : गांधी जयंती के अवसर पर जिले में चलेगा अब तक का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन कैंपेन

मिशन एक लाख : गांधी जयंती के अवसर पर जिले में चलेगा अब तक का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन कैंपेन

• एक लाख लोगों को वैक्सीन देने के लिए जिले में संचालित होंगे 673 टीकाकरण सत्र स्थल
• 47 केंद्रों का सुबह सात बजे से लेकर रात 9 बजे तक वैक्सीन ले सकते हैं लाभुक

बक्सर | कोरोना संक्रमण के प्रभावों को कम करने के उद्देश्य से राज्य सरकार के निर्देश पर जिले में अब तक तीन बार टीकाकरण का महाअभियान चलाया जा चुका है। जिनमें बक्सर जिले की स्थिति काफी बेहतर रही है। इसी सफलता के कारण राज्य सरकार ने गांधी जयंती यानी की शनिवार को जिले में अब तक का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन कैंपेन चलाने का निर्णय लिया है। जिसमें जिले को कुल एक लाख लोगों को टीके की डोज देने का निर्णय लिया गया है। 
सिविल सर्जन डॉ. जितेंद्र नाथ ने बताया, राज्य स्वास्थ्य समिति से जिले को महाअभियान के लिए वैक्सीन की एक लाख डोज उपलब्ध कराया है। जिसे गुरुवार की शाम को ही जिले में संचालित होने वाले 673 टीकाकरण सत्र स्थलों के लिए भेज दिया गया है। महाअभियान की सभी तैयारियां ससमय पूर्ण कर ली गयी हैं। टीकाकरण केन्द्र पर वैक्सीनेशन के लिए आवश्यक संसाधन, सिरिंज व वैक्सीन के अलावा प्राप्त संख्या में स्वास्थ्यकर्मी व वरिफायरों को प्रतिनियुक्त किया गया है।

सुबह 8 से संध्या पांच बजे तक संचालित होंगे 626 सत्र स्थल :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. राज किशोर सिंह ने बताया, पूर्व के अभियानों की समीक्षा के बाद पाया गया कि अब एक स्थान पर बड़ी आबादी को टीकाकृत करने के बजाए छोटे-छोटे सत्र स्थल बनाये जाएं। जिसके लिए इस महाअभियान में 673 टीकाकरण सत्रों का संचालन किया जाना है। जिसमें सबसे खास बात यह है कि इन 673 सत्र स्थलों में से 47 केंद्रों का संचालन सुबह सात बजे से लेकर रात 9 बजे तक किया जाएगा। वहीं, शेष केंद्रों का संचालन सुबह आठ बजे से संध्या पांच बजे तक किया जाना है। उन्होंने बताया, सभी सत्रों का संचालन समय पर हो इसके लिए सम्बंधित प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को गाइडलाइन्स से अवगत कराया जा चुका है। उन्होंने कहा, जिन इलाके जहां अब तक टीकाकरण का प्रतिशत कम रहा है, वहां प्राथमिकता के आधार पर सत्र का संचालन किया जाएगा।

महाअभियान की सफलता के लिए जनसहयोग जरूरी :
डॉ. राज किशोर सिंह ने कहा, महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर महाटीकाकरण अभियान की सफलता के लिए जनसहयोग बेहद जरुरी है। अब तक चलाये गए महाअभियान को लोगों के सहयोग और उनकी सहभागिता की बदौलत ही संपन्न कराया जा सका है। उन्होंने बताया, ऐसे लाभार्थी जिन्होंने कोविशील्ड टीकाकरण की पहली डोज के बाद 84 दिन पूरे कर लिए हैं, उन्हें ससमय दूसरे डोज से अच्छादित करने का लक्ष्य रखा गया है। जब तक लोग वैक्सीन की दूसरी डोज समय पर नहीं ले लेते, तब तक वह संभावित संक्रमण के प्रभाव से पूरी तरह सुरक्षित नहीं हो सकते। ऐसे लोगों को उत्प्रेरित करने के उद्देश्य से जिले में फ्रंट लाइन वर्कर्स को लगाया गया है। जो लोगों को समझा रहे हैं कि कोरोना का टीका लेने से किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होता है, इसलिए बिना झिझक के टीका लीजिए। टीका लेने के बाद ही कोरोना से सुरक्षित हो पाएंगे।